Skip to main content

अति जरूरतमंद लोगों को अभी भी राहत कार्य जारी

अति जरूरतमंद लोगों को अभी भी राहत कार्य जारी

लॉक डाउन अभी भी है और दैनिक मजदूरी पर आश्रित सभी लोगों को अभी भी जरुरत का राशन उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। प्रगति पथ फाउंडेशन ऐसे ही अति जरूरतमंद लोगों और प्रवासी मज़दूरों के परिवारों को तात्कालिक राहत सामग्री उपलब्ध करा रही है । COVID-19: एक जंग भूख के खिलाफ़ अभियान के अंतर्गत आज बघवनाला और हुकुलगंज में 30 अति जरूरतमंद दैनिक मजदूरी पर आश्रित मजदूरों, रिक्शा चालक, विधवा महिलाओं, दिव्यांग लोगों को खाद्य सामग्री वितरित की गयी. इन सभी लोगों के पास राशनकार्ड नहीं था, जिसके कारण इन्हें किसी भी प्रकार की सरकारी सहायता नहीं मिल पा रही थी, इनको कोटे से राशन मिले इसके लिए पार्षद और सम्बंधित अधिकारीयों से संपर्क किया गया। वितरण कार्य में Manish Verma और Anil Kumar ने सहयोग किया.
सभी सहयोगियों को सादर धन्यवाद!








Comments

Popular posts from this blog

Deprived Education for Children living in Urban Poverty

Deprived Education for Children living in Urban Poverty (Deprivation & Slum, Migrant and Streets Children) Neelam Patel General Secretary Pragati Path Foundation Abstract The existences of slums are prevalent not only in India but throughout the world in other countries also such as China, Japan, Korea and so forth. The main objective of this research paper is to focus upon the educational opportunities available for the slum’s children in India. What is their lifestyle and how does acquiring of education influence their living. The main areas that have been emphasized upon in this research paper are existence of slum areas and population, problems faced by the slum’s children in achieving elementary education, understanding of significance of education by the slum’s children, objectives to endorse education amongst the slum’s children and factors affecting the demand and supply of education amongst the slum’s children. Slum areas in India are in a very un

Women Empowerment through Micro Finance

Women Empowerment through Micro Finance Deepak Pujari President Pragati Path Foundation Empowerment implies expansion of assets and capabilities of people to influence control and hold accountable institution that affects their lives (World Bank Resource Book).Empowerment is the process of enabling or authorizing an individual to think, behave, take action and control work in an autonomous way. It is the state of feelings of self-empowered to take control of one’s own destiny. It includes both controls over resources (Physical, Human, Intellectual and Financial) and over ideology (Belief, values and attitudes) (Batliwala, 1994). Empowerment can be viewed as a means of creating a social environment in which one can take decisions and make choice either individually or collectively for social transformation. It strength innate ability by way of acquiring knowledge power and experience. Empowerment is a multi-dimensional social process that helps people gain co

लॉक डाउन में बच्चों को मिली खुशी, जब उन्हें मिला बाल पोषण किट

लॉक डाउन में बच्चों को मिली खुशी , जब उन्हें मिला बाल पोषण किट आज जनपद वाराणसी के विकासखण्ड बड़ागाँव के इटहा गाँव में प्रवासी श्रमिको के बच्चों को खुशी तब मिली जब उन्हें COVID-19 एक जंग भूख के खिलाफ अभियान के अंतर्गत बाल पोषण किट वितरण किया गया॰ लॉक डाउन के कारण दैनिक मजदूरी पर आश्रित मजदूरों के सामने दो आजीविका का संकट था और दो वक्त की रोटी का जुगाड़ करना भी उनके लिए भारी था , तो पौष्टिक भोजन का तो सवाल ही नहीं उठता॰ बाल मन कभी कभी कुछ पौष्टिक या कुछ स्नैक्स की माँग करता , तब उनके माता-पिता मजबूरीवश उन्हें कोरोना का डर दिखा कर चुप करा देते थे , उनके इस संकट ने उनके बच्चों को मायूस ही कर दिया था॰ लॉक डाउन अनलॉक होने के बाद मजदूरों को कुछ उम्मीद दिखी , लेकिन वे अभी भी बच्चों को पौष्टिक भोजन उपलब्ध करा पाने में असमर्थ हैं॰ बच्चों का मन मारना नीलम जी से देखा नहीं जाता था , लेकिन संस्था की प्राथमिकता पहले श्रमिक परिवारों को भोजन उपलब्ध कराना था॰ संस्था ने निर्णय लिया कि लॉक डाउन 5.0 में हमारा फोकस बच्चों को पोषण किट उपलब्ध कराना होता , ताकि उनका स्वास्थ्य बेहतर रहे॰ संस्